2000 Fake Note In Taran Taarn

[adsense_inserter id="594"]

12_11_2016-12two

12two1

पाकिस्तान की सीमा से सटे तरनतारन में दो हजार रुपये के नकली नोट मिलने के बाद दुकानदारों में हड़कंप मच गया है।

तरनतारन (धर्मवीर सिंह मल्हार)। सरकार द्वारा 500 और 1000 का नोट बंद किए जाने के बाद आम लोगों के हाथ में भले ही नई करंसी नहीं लग पा रही, लेकिन 2000 के जाली नोटों ने पाकिस्तान की सीमा से सटे जिला तरनतारन में हड़कंप मचा दिया है। शरारती लोगों द्वारा 2000 के नकली नोट बाजार में धड़ाधड़ चलाए जा रहे हैं। मामले पर पुलिस ने चुप्पी साधी हुई है।

कस्बा भिखीविंड में गत सायं मोबाइल रिपेयर करने वाले दुकानदार रिंकू कुमार की दुकान से खरीद फरोख्त करने आए युवक नई करंसी (2000 का नोट) देकर चले गए। बदले में दुकानदार ने बकाया राशि भी वापस कर दी। इस नोट का नंबर 4एसी-102501 था।

कुछ देर के बाद मल्होत्रा जनरल स्टोर पर किसी ग्राहक द्वारा 2000 का जो नोट दिया गया उसका नंबर भी यही था। बाजार में नकली नोट पाए जाने का जिक्र एकदम फैला तो दोनों दुकानदारों ने पुलिस को सूचित किया। इस बीच, जीत सिंह नामक दुकानदार ने शिकायत की कि 2000 का नकली नोट उसे भी कुछ लोग थमा गए हैं।

भारत सरकार द्वारा जारी की गई नई करंसी लेने के लिए तीन दिन से बैंकों में जहां लंबी कतारें लगी हुई है, वहीं नई करंसी के जाली नोट मार्केट में कैसे उतरे। इसका जवाब किसी के पास नहीं है। तरनतारन में 2000 की नई करंसी पर भी लोग दुविधा में पडऩे लगे हैं। जारी की गई नई करंसी पर दोन हजार अंकित किया गया है। इसके कारण लोगों में इस बात का भय है कि ये नोट कहीं नकली ना हो।

दुकानदार जसविंदर सिंह, तरसेम सिंह, सुरिंदर कुमार, कश्मीर सिंह, बलकार सिंह ने दैनिक जागरण को बताया कि नई करंसी लेने के लिए पहले वे तीन दिन से बैंकों में भूखे पेट घंटों तक खड़े रहे। अब करंसी मिल तो गई, लेकिन नकली नोट बाजार में आ जाने के कारण वह चिंतित हैैं। उधर, एसएसपी मनमोहन कुमार शर्मा का कहना है कि बाजार में नई करंसी के नकली नोटों के बाबत उन्हें कोई भी शिकायत नहीं मिली। शिकायत मिलने पर जरूर कार्रवाई की जाएगी।

[adsense_inserter id="594"]